home page

IMD Weather Alert: जुलाई महीने में इन राज्यों में होगी मूसलाधार मानसूनी बारिश, जल्दी से देख ले राज्यों के नाम

दक्षिण पश्चिम मॉनसून ने जून के अंत तक भारत के अधिकांश हिस्सों को कवर कर लिया है। वर्षा की इस बहार ने किसानों और आम जनता के चेहरे पर खुशी की लहर दौड़ा दी है।
 | 
monsoon 2024 arrival date in india,  temperature in jaipur,  1 july ko barish hogi,  ahmedabad rain news,  surat rain news,कल मौसम कैसा रहेगा, मानसून की जानकारी मध्यप्रदेश, राजस्थान में मानसून कब आएगा, आज बारिश होगी या नहीं, आज कहां बारिश होगी, मानसून न्यूज,Hindi News,
   

दक्षिण पश्चिम मॉनसून ने जून के अंत तक भारत के अधिकांश हिस्सों को कवर कर लिया है। वर्षा की इस बहार ने किसानों और आम जनता के चेहरे पर खुशी की लहर दौड़ा दी है। विशेष रूप से हरियाणा सहित कुछ राज्यों के जो हिस्से अभी तक बारिश के लिए तरस रहे थे उनके लिए भी अगले 2-3 दिनों में भारी वर्षा की संभावना जताई जा रही है।

भारतीय मौसम विभाग की रिपोर्ट

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार आने वाले पांच दिनों में केरल, माहे, लक्षद्वीप, तटीय कर्नाटक, कोंकण, गोवा, और गुजरात में हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है। इसके अलावा मध्य महाराष्ट्र, तटीय आंध्र प्रदेश, यानम, मराठवाड़ा, तमिलनाडु, पुडुचेरी, करईकल, रायलसीमा, तेलंगाना और कर्नाटक के अंदरूनी हिस्सों में भी बारिश के आसार हैं।

विभिन्न राज्यों में भारी बारिश की संभावना

विशेष तौर पर, पंजाब, दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गंगीय पश्चिम बंगाल, झारखंड, बिहार, और छत्तीसगढ़ में 4 जुलाई तक भारी बारिश के आसार हैं। यह वर्षा खेती के लिए अत्यंत लाभकारी साबित होगी और यह किसानों के लिए वरदान सिद्ध हो सकता है।

हमारा Whatsapp ग्रूप जॉइन करें Join Now

बिहार में भारी वर्षा

बिहार में भी मानसून ने दस्तक दी है, और सोमवार तथा मंगलवार को राज्य के अधिकांश भागों में तेज हवा और गरज के साथ वर्षा होने की संभावना है। विशेष तौर पर पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, किशनगंज, और सीतामढ़ी जैसे क्षेत्रों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

मॉनसून की तेजी से प्रगति

आगामी दिनों में, मॉनसून की प्रगति में और तेजी आने की संभावना है। इसके फलस्वरूप, राजस्थान, हरियाणा, चंडीगढ़ और पंजाब के शेष हिस्सों में भी बारिश की शुरुआत होने की उम्मीद है। यह पूरे क्षेत्र में तापमान को कम करने और वातावरण को शीतल बनाने में मदद करेगा।