home page

UP BARISH: अगले कुछ घंटो में यूपी में मानसून पकड़ेगा रफ्तार, इन जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी

उत्तर प्रदेश में मानसून ने फिर से गति पकड़ ली है। पिछले दो दिनों से मंद पड़ी इसकी चाल अब फिर से तेज हो गई है और राज्य के अधिकांश भागों में अगले 3-4 दिनों में भारी से अत्यधिक भारी बारिश की संभावना है।
 | 
यूपी में मॉनसून ने फिर पकड़ी रफ्तार, आज कई जिलों में भारी बारिश का अलर्ट, 15 जुलाई तक झमाझम बरसेंगे मेघ
   

उत्तर प्रदेश में मानसून ने फिर से गति पकड़ ली है। पिछले दो दिनों से मंद पड़ी इसकी चाल अब फिर से तेज हो गई है और राज्य के अधिकांश भागों में अगले 3-4 दिनों में भारी से अत्यधिक भारी बारिश की संभावना है। मौसम विभाग ने इसे देखते हुए भारी बारिश के लिए अलर्ट जारी किया है जिससे लोगों को उमस भरी गर्मी से भी राहत मिलने की उम्मीद है।

आज का मौसम अलर्ट

मौसम विभाग ने आज के लिए पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में भारी बारिश के संकेत दिए हैं। इसके साथ ही कई जगहों पर गरज के साथ बौछारों की भी संभावना है। विशेष रूप से पूर्वी उत्तर प्रदेश में आज भारी से अत्यधिक भारी बारिश होने की चेतावनी है। इस दौरान कुछ स्थानों पर बादल फटने और बिजली गिरने की आशंका भी है। यूपी के 9 जिलों में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट और 12 जिलों में येलो अलर्ट जारी किया गया है।

मंगलवार को भी जारी रही बारिश

मौसम विभाग के अनुसार मंगलवार को भी उत्तर प्रदेश में बारिश का सिलसिला जारी रहा। पिछले 24 घंटों में गाजीपुर में सबसे अधिक 45.8 मिमी बारिश हुई, जबकि इटावा, मुजफ्फरपुर, बुलंदशहर, कानपुर और बाराबंकी में भी कुछ मात्रा में बारिश दर्ज की गई। इस बारिश ने राज्य के कई हिस्सों में तापमान को सामान्य से नीचे आ गया है।

हमारा Whatsapp ग्रूप जॉइन करें Join Now

तापमान में उतार-चढ़ाव

मंगलवार को अधिकतर जगहों पर तापमान सामान्य से अधिक रहा। वाराणसी में सबसे उच्चतम तापमान 38.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि कानपुर और बस्ती में भी तापमान क्रमशः 38.2 और 37 डिग्री सेल्सियस तक पहुँच गया। यह तापमान में बढ़ोतरी मानसून की धीमी स्पीड के दौरान होने वाली गर्मी का संकेत देती है।

आगे का मौसम का हाल 

उत्तर प्रदेश में मानसून की यह नई लहर न केवल खेती के लिए बल्कि आम जनजीवन के लिए भी राहत लाने वाली है। अगले कुछ दिनों में बारिश की यह सक्रियता उमस और गर्मी से राहत दिलाने के साथ-साथ जल संचयन के लिए भी महत्वपूर्ण होगी।