home page

Chanakya Niti: शादी के बाद पत्नी को खुश करने के लिए ये टिप्स है सबसे बेस्ट, पहली बार में ही पत्नी हो जायेगी एकदम संतुष्ट

चाणक्य नीति को जीवन के हर क्षेत्र की सर्वश्रेष्ठ नीति कहा जाता है। आज भी इस नीति का प्रचार चल रहा है।
 | 
Chanakya Niti: शादी के बाद पत्नी को खुश करने के लिए ये टिप्स है सबसे बेस्ट, पहली बार में ही पत्नी हो जायेगी एकदम संतुष्ट
   

चाणक्य नीति को जीवन के हर क्षेत्र की सर्वश्रेष्ठ नीति कहा जाता है। आज भी इस नीति का प्रचार चल रहा है। चाणक्य नीति के ज्ञाता और प्रखर वक्ता डा. अनमोल मिश्रा का कहना है कि चाणक्य नीति आज भी उतनी ही महत्वपूर्ण है जितनी कि चाणक्य के समय में थी। उनका कहना है कि चाणक्य नीति में पत्नी को हमेशा खुश व संतुष्ट रखने का सबसे अच्छा उपाय है।

Chanakya Niti Tips

डा. अनमोल मिश्रा, यूपी के नोएडा शहर के सेक्टर 15ए में रहते हैं, चाणक्य नीति के हर पहलू पर चर्चा करते हैं। चेतना मंच में श्री मिश्रा ने कहा कि जो भी व्यक्ति अपनी पत्नी को हमेशा खुश और संतुष्ट रखना चाहता है, उसे चाणक्य नीति का पालन करना चाहिए। श्री मिश्रा कहते हैं कि चाणक्य नीति में पत्नी को खुश रखने के लिए ऊंट की तुलना की गई है।

ऊंट के पांच गुण कर देंगे कमाल

नोएडा के साथ सामाजिक क्षेत्र में खास प्रतिष्ठा के पात्र डा. अनमोल मिश्रा कहते हैं कि जो व्यक्ति अपने जीवन में ऊंट के खास गुण अपना लेता है वह व्यक्ति अपनी पत्नी को हमेशा संतुष्ट रखता है। वे बताते हैं कि ऊंट का सबसे बड़ा गुण यह है कि वह हमेशा संतोषी भाव (संतुष्ट) का धनी होता है।

हमारा Whatsapp ग्रूप जॉइन करें Join Now

जितना भोजन मिल जाए उसी में संतुष्ट हो जाता है। इसी प्रकार यदि किसी इंसान के जीवन में हर समय संतुष्टि का भाव रहे तो वह स्वयं तो आनंद में रहता ही है साथ ही अपने परिवार को भी आनंद में रख सकता है। वह मेहनत से कमाए गए धन को भी संतुष्टि के भाव के साथ जितना मिला उतने में ही संतुष्ट रहता है।

पत्नी की संतुष्टि की जिम्मेदारी समझे

डा. अनमोल मिश्रा कहते हैं कि चाणक्य नीति में स्पष्ट कहा गया है कि एक व्यक्ति को अपनी पत्नी को शारीरिक और मानसिक रूप से संतुष्ट करना नैतिक कर्तव्य है। यह गुण वाले व्यक्ति के घर या परिवार में कभी विवाद नहीं होता। यदि पत्नी पूरी तरह से खुश रहती है, तो वह घर को स्वर्ग बना सकती है। ऐसे पुरुषों के परिवारों में निरंतर सुधार और प्रगति होती है।

ऊंट के समान वीरता

डा. अनमोल मिश्रा बताते हैं कि चाणक्य नीति में इस बात का साफ जिक्र मिलता है कि पुरुष को ऊंट के समान वीर तथा बहादुर होना चाहिए। जिस प्रकार ऊंट किसी भी परिस्थिति में नहीं डरता है। वह अपने मालिक की हर हाल में रक्षा करता है, वैसे ही पुरूष को भी किसी भी हाल में अपनी पत्नी, बच्चों व परिवार की रक्षा करने वाला होना चाहिए। ऐसे वीर पुरुष पर कोई भी महिला फिदा हो सकती है। वीर पुरुष की पत्नी सदैव अपने पति पर गर्व करती है।

वफादारी सबसे बड़ी शर्त

डा. मिश्रा बताते हैं कि चाणक्य नीति में आचार्य चाणक्य ने वफादारी को सबसे बड़ा गुण बताया है। जिस प्रकार कोई भी प्राणी ऊंट की वफादारी पर शक नहीं कर सकता उसी प्रकार पुरूष को भी अपनी पत्नी के प्रति वफादार होना चाहिए। वफादार पति से प्रत्येक पत्नी अटूट प्यार करती है। ऐसे पुरुषों का घर संसार हमेशा आनंद में रहता है और सदैव प्रगति करता रहता है। वफादार पुरुषों की हर जगह मिसाल भी दी जाती है।

Chanakya Niti – सतर्कता से जीत सकते हैं दिल

चाणक्य नीति में, डा. मिश्रा कहते हैं, ऊंट हमेशा सावधान रहता है। ऊंट भी गहरी निद्रा में सोते समय इतना सावधान रहता है कि कोई आहट होते ही सक्रिय हो जाता है। उसी प्रकार पुरुषों को भी अपने दायित्वों को समझना चाहिए। वह पुरुष जो अपनी पत्नी, बच्चों और परिवार के प्रति सदैव सतर्क रहता है और नींद में सोते समय हल्की आहट पर भी जागकर उसके हाल चाल पूछता है, वह पुरुष हमेशा खुश रहता है।

डा. अनमोल मिश्रा बताते हैं कि जिन पुरुषों ने चाणक्य नीति का ऊंट बनने का उदाहरण अपने जीवन में उतारा है, उनके परिवार हमेशा खुश रहे हैं। चाणक्य नीति का प्रत्येक भाग आज भी उतना ही मूल्यवान है जितना कि वह आचार्य चाणक्य के जीवनकाल में था।